Teri muskaan tera lahja tere masoom se alfaaz shayari

alfaaz shayari

Teri muskaan tera lahja tere masoom se alfaaz,



1. समज़ते है की पत्थर है हम,
उनको ठोकर मार जाएँगे ,
एक बार कह दे नफ़रत है हम से,
खुदा कसम पत्थर तो क्या,
फूल बन कर भी उनकी राह मे नही आएँगे.


Teri muskaan tera lahja tere masoom se alfaaz shayari
Teri muskaan tera lahja tere masoom se alfaaz shayari

alfaaz shayari


 samajte hai ki patthar hai ham,

unko thokar maar jaaange ,

ek baar kah de napharat hai ham se,

khudaa kasam patthar to kyaa,

phul ban kar bhi unki raah me nahi aaange.



2. उन्होंने जो किया ये शायद उनकी फितरत है!

अपने लिये तो प्यार एक इबादत है!

न मिले उनसे तो मरकर बता देंगे!

कि कितनी मुहब्बत है इस दिल में!



unhonne jo kiyaa ye shaayad unki phitarat hai!

apne liye to pyaar ek ebaadat hai!

n mile unse to marakar bataa denge!

ki kitni muhabbat hai es dil men!



3. हम अपनी वफ़ा का यकीन तुमको दिला ना सके,

तुमसे दूर गये क्या फिर पास आ ना सके,

इस कदर टूट कर पर किया तुझे के,

तेरे जाने के बाद हम किसी और के हो ना सके .



ham apni vaphaa kaa yakin tumko dilaa naa sake,

tumse dur gaye kyaa phir paas aa naa sake,

es kadar tut kar par kiyaa tujhe ke,

tere jaane ke baad ham kisi aur ke ho naa sake.



4. ​मेरा ख़याल ज़ेहन से मिटा भी न सकोगे​;

​एक बार जो तुम मेरे गम से मिलोगे​;​

​तो सारी उम्र मुस्करा न सकोगे​।



meraa khyaal jehan se mitaa bhi n sakoge​;

​ak baar jo tum mere gam se miloge​;​

​to saari umr muskraa n sakoge.



5. सह लिया है हर दर्द हमने हस्ते-हस्ते,

उजड़ गया है मेरा घर बस्ते-बस्ते.

अब वफ़ा करे भी तो कैसे करे,

वफ़ा करने गया तो बेवफ़ाई ही मिली है रस्ते-रस्ते.



sah liyaa hai har dard hamne haste-haste,

ujad gayaa hai meraa ghar baste-baste.

ab vaphaa kare bhi to kaise kare,

vaphaa karne gayaa to bevaphaai hi mili hai raste-raste.



6. जान कर भी वो मुझे जान ना पाए,

आज तक वो मुझे पहचान ना पाए,

खुद ही कर ली बेवफ़ाई हमने,

ताकि उनपर कोई इल्ज़ाम ना आए.



jaan kar bhi vo mujhe jaan na pae,

aaj tak vo mujhe pahchaan na pae,

khud hi kar li bevafai hamne,

taaki unapar koi ilzaam na aae.



7. वफ़ा के नाम से वो अंजन थे,

किसी की बेवफ़ाई से शायद परेशान थे,

हुँने वफ़ा देनी चाही तो पता चला,

“हम खुद ही बेवफा” के नामसे बदनाम थे.



Wafaa ke naam se vo anjan the,

kisi ki bewafai se shaayad pareshaan the,

hunne wafaa deni chaahi to pataa chalaa,

“ham khud hi bewfaa” ke naamse badnaam the.



8. सामने आकर चाहे जान से मार डालो,

मगर पीछे से बद्दुआ दिया ना करो,

हाल भी ना जानो मेरा बर्बादी के बाद,

इतने भी सनम पत्थर दिल हुआ ना करो.



saamne aakar chaahe jaan se maar daalo,

magar pichhe se badduaa diyaa naa karo,

haal bhi naa jaano meraa barbaadi ke baad,

etne bhi sanam patthar dil huaa naa karo.



9. उमर की राह मे रस्ते बदल जाते हैं,

वक्त की आंधी में इन्सान बदल जाते हैं,

सोचते हैं तुम्हें इतना याद न करें,

लेकिन आंखें बंद करते ही इरादे बदल जाते हैं


umar ki raah me raste badal jaate hain,

vakt ki aandhi men ensaan badal jaate hain,

sochte hain tumhen etnaa yaad n karen,

lekin aankhen band karte hi eraade badal jaate hain


10. झुकी पलको से उनका दीदार किया था,

सब कुछ भूलके उनका इंतेज़ार किया था.

वो समज ना सके मेरे जज़्बात कही,

जिन्हे ज़िंदगी मे सबसे ज़्यादा प्यार किया था.



jhuki palko se unkaa didaar kiyaa thaa,

sab kuchh bhulke unkaa entejaar kiyaa thaa.

vo samaj naa sake mere jajbaat kahi,

jinhe jindgi me sabse jyaadaa pyaar kiyaa thaa.



Post a Comment

0 Comments