insaan aakhir mohabbat

insaan aakhir mohabbat


1. jo aapne n liyaa ho, aisaa koi inthaan n rahaa, 


insaan aakhir mohabbat men insaan n rahaa, 


hai koi basti, jahaan se n uthaa ho jnaajaa diwaane kaa, 


aashik ki kurbat se mahrum koi kabristaan n rahaa,


insaan aakhir mohabbat


insaan aakhir mohabbat
insaan aakhir mohabbat



जो आपने न लिया हो, ऐसा कोई इम्तहान न रहा,
 
 इंसान आखिर मोहब्बत में इंसान न रहा,
 
है कोई बस्ती, जहां से न उठा हो ज़नाज़ा दीवाने का, 
 
आशिक की कुर्बत से महरूम कोई कब्रिस्तान न रहा,



2. वो समझें या ना समझें मेरे जजबात को, 

मुझे तो मानना पड़ेगा उनकी हर बात को, 

हम तो चले जायेंगे इस दुनिया से, 

मगर आंसू बहायेंगे वो हर रात को



vo samjhen yaa naa samjhen mere jajbaat ko, 

mujhe to maannaa paregaa unki har baat ko, 

ham to chale jaayenge es duniyaa se, 

magar aansu bahaayenge vo har raat ko



3. कोई रिश्ता टूट जाये दुख तो होता है, 

अपने हो जायें पराये दुख तो होता है, 

माना हम नहीं प्यार के काबिल मगर 

इस तरह कोई ठुकराये दुख तो होता है।



koi rishtaa tut jaaye dukh to hotaa hai, 

apne ho jaayen paraaye dukh to hotaa hai, 

maanaa ham nahin pyaar ke kaabil magar 

is tarah koi thukraaye dukh to hotaa hai 
.


4. अगर दुनिया में जीने की चाहत ना होती; 

तो खुदा ने मोहब्बत बनाई ना होती; 

लोग मरने की आरज़ू ना करते; 

अगर मोहब्बत में बेवाफ़ाई ना होती!



agar duniyaa men jine ki chaahat naa hoti;

 to khudaa ne mohabbat banaai naa hoti;

 log marne ki aarju naa karte; 

agar mohabbat men bevaafaai naa hoti!



5. शायरी नहीं आती मुझे बस हाले दिल सुना रही हूँ; 

बेवफ़ाई का इलज़ाम है, मुझपर फिर भी गुनगुना रही हूँ; 

क़त्ल करने वाले ने कातिल भी हमें ही बना दिया; 

खफ़ा नहीं उससे फिर भी मैं बस, उसका दामन बचा रही हूँ



shaayri nahin aati mujhe bas haale dil sunaa rahi hun;

 bevaphaai kaa elajaam hai, mujhapar phir bhi gungunaa rahi hun;

 katl karne vaale ne kaatil bhi hamen hi banaa diyaa; 

khafaa nahin usse phir bhi main bas, uskaa daaman bachaa rahi hun .



6. शायरी नहीं आती मुझे बस हाले दिल सुना रही हूँ; 

बेवफ़ाई का इलज़ाम है, मुझपर फिर भी गुनगुना रही हूँ; 

क़त्ल करने वाले ने कातिल भी हमें ही बना दिया; 

खफ़ा नहीं उससे फिर भी मैं बस, उसका दामन बचा रही हूँ



shaayri nahin aati mujhe bas haale dil sunaa rahi hun; 

bevaphaai kaa elajaam hai, mujhapar phir bhi gunagunaa rahi hun;

 katl karne vaale ne kaatil bhi hamen hi banaa diyaa; 

khaphaa nahin usse phir bhi main bas, uskaa daaman bachaa rahi hun



7. भुला कर हमें वो खुश रह पाएंगे, 

साथ में नही तो मेरे जाने के बाद मुस्कुरायेंगे, 

दुआ है खुदा से की उन्हें कभी दर्द न देना, 

हम तो सह गए पर वोह टूट जायेंगे



bhulaa kar hamen vo khush rah paaange, 

saath men nahi to mere jaane ke baad muskuraayenge, 

duaa hai khudaa se ki unhen kabhi dard n denaa, 

ham to sah gaye par voh tut jaayenge



8. चले जाने दो उस बेबफा को किसी और की बाँहों में,

 जो इतनी चाहत के बाद मेरा ना हुआ वो किसी और का क्या होगा



chale jaane do us bebphaa ko kisi aur ki baanhon men, 

jo etni chaahat ke baad meraa naa huaa vo kisi aur kaa kyaa hogaa



9. एक बेबफा के जख्मो पे मरहम लगाने हम गए

 मरहम की कसम मरहम न मिला मरहम की जगह मर हम गए !



ek bebphaa ke jakhmo pe maraham lagaane ham gaye

 maraham ki kasam maraham n milaa maraham ki jagah mar ham gaye !



10. कोई जुदा हो गया कोई कफा हो गया

यह दूनिया के लोगों को क्या हो गया

जिस सजदा मैं मुझे उस को मागना था

रब सा अफ़सोस वोही सजदा क़हा हो गया



koi judaa ho gayaa koi kaphaa ho gayaa

yah duniyaa ke logon ko kyaa ho gayaa

jis sajdaa main mujhe us ko maagnaa thaa

rab saa aphsos vohi sajdaa khaa ho gayaa


Post a Comment

0 Comments