Mohabbat

Mohabbat 


Mohabbat se khafaa tum bhi,

 mohabbat se khafaa ham bhi 

nahin tujhme zafaa kuchh bhi,

 nahin mujhme zafaa kuchh bhi 

magar kahte rahe majbur se ham 

is mohabbat men bare ho bewafa tum bhi , 


Mohabbat
Mohabbat

1 .Mohabbat, एक अजीब सा मंजर नज़र आता हैं … 

हर एक आँसूं समंदर नज़र आता हैं 

कहाँ रखूं मैं शीशे सा दिल अपना ..

हर किसी के हाथ मैं पत्थर नज़र आता हैं


ek ajib saa manjar nazar aataa hain …

 har ek aansun samandar njar aataa hain

 kahaan rakhun main shishe saa dil apnaa ..

 har kisi ke haath main patthar njar aataa hain


2. मोहब्बत से खफा तुम भी, 

मोहब्बत से खफा हम भी नहीं तुझमे जफ़ा कुछ भी, 

नहीं मुझमे जफ़ा कुछ भी मगर कहते रहे मजबूर

 से हम इस मोहब्बत में बड़े हो बेवफ़ा तुम भी

 , बड़े है बेवफा हम भी


mohabbat se khafaa tum bhi,

 mohabbat se khafaa ham bhi nahin tujhme jfaa kuchh bhi,

 nahin mujhme jfaa kuchh bhi magar kahte rahe majbur

 se ham es mohabbat men bde ho bewafa tum bhi , 

bde hai bewafa ham bhi


3. मोहब्बत ने हम पर ये इल्ज़ाम लगाया हैं . 

वफ़ा कर के बेबफा का नाम आया हैं .

राहें अलग नहीं थी हमारी फिर भी .

 हम ने अलग अलग मंज़िल को पाया हैं


mohabbat ne ham par ye eljaam lagaayaa hain . 

vfaa kar ke bebphaa kaa naam aayaa hain .

raahen alag nahin thi hamaari phir bhi .

 ham ne alag alag manjil ko paayaa hain


4. मत ज़िकर कीजिये मेरी अदा के बारे में; 

मैं बहुत कुछ जानता हूँ वफ़ा के बारे में; 

सुना है वो भी मोहब्बत का शोक़ रखते हैं; 

जो जानते ही नहीं वफ़ा के बारे में।


mat jikar kijiye meri adaa ke baare men;

main bahut kuchh jaantaa hun vaphaa ke baare men;

sunaa hai vo bhi mohabbat kaa shok rakhte hain;

jo jaante hi nahin vaphaa ke baare men।


5. लम्हा लम्हा सांसें ख़तम हो रही हैं .. 

ज़िंदगी मौत के पहलू में सौ रही है .. 

उस बेवफा से ना पूछो मेरी मौत की वजह .. 

वो तो ज़माने को दिखाने के लिए रो रही है.


lamhaa lamhaa saansen khtam ho rahi hain .. 

jindgi maut ke pahlu men sau rahi hai .. 

us bevphaa se naa puchho meri maut ki vajah .. 

vo to jmaane ko dikhaane ke lia ro rahi hai.


6. पलकों के किनारे हमने भिगोये ही नहीं . 

वो सोचते हैं कि हम रोये ही नहीं . 

वो पूछते हैं कि ख्वाबों मैं किसे देखते हो . 

हम हैं कि एक उम्र से सोये ही नहीं .

palkon ke kinaare hamne bhigoye hi nahin . 

vo sochte hain ki ham roye hi nahin . 

vo puchhte hain ki khvaabon main kise dekhte ho .

 ham hain ki ek umr se soye hi nahin .


7. दिल टूटेगा तो फरियाद करोगे तुम भी . 

हम न रहे तो हमने याद करोगे तुम भी . 

आज कहते हो हमारे पास वक़्त नहीं हैं .

 पर एक दिन मेरे लिए वक़्त बर्बाद करोगे तुम भी .

dil tutegaa to phariyaad karoge tum bhi . 

ham n rahe to hamne yaad karoge tum bhi .

 aaj kahte ho hamaare paas vkt nahin hain . 

par ek din mere lia vkt barbaad karoge tum bhi .


8. कभी रो के मुस्कुराये , कभी मुस्कुरा के रोये . 

तेरी याद जब भी आयी, तुझे भुला भुला के रोये . 

एक तेरा ही नाम था जिसे हज़ार बार था लिखा . 

जिसे खुश हुए थे लिख कर , उसे मिटा मिटा के रोये.


kabhi ro ke muskuraaye , kabhi muskuraa ke roye . 

teri yaad jab bhi aayi, tujhe bhulaa bhulaa ke roye . 

ek teraa hi naam thaa jise hjaar baar thaa likhaa . 

jise khush hua the likh kar , use mitaa mitaa ke roye.



9. ना पूछ मेरे सब्र की इंतेहा कहाँ तक हैं, 

तू सितम कर ले, तेरी हसरत जहाँ तक हैं,

 वफ़ा की उम्मीद, जिन्हें होगी उन्हें होगी, 

हमें तो देखना है, तू बेवफ़ा कहाँ तक हैं |


naa puchh mere sabr ki entehaa kahaan tak hain,

 tu sitam kar le, teri hasarat jahaan tak hain, 

vaphaa ki ummid, jinhen hogi unhen hogi,

 hamen to dekhnaa hai, tu bevaphaa kahaan tak hain .


10. प्‍यार गुनाह है तो होने ना देना 

प्‍यार खुदा है तो खोने ना देना 

करते हो प्‍यार जब किसी से तो 

कभी उस प्‍यार को रोने ना देना


p‍yaar gunaah hai to hone na denaa 

p‍yaar khudaa hai to khone na denaa 

karte ho p‍yaar jab kisi se to

 kabhi us p‍yaar ko rone na denaa

Post a Comment

0 Comments